नोट बंद करने के पहले मोदी ने की थी बीजेपी की मीटिंग, वीडियो लीक

4
2563

atm-looter-89364_091116-095219

नरेंद्र मोदी ने हजार और पांच सौ के पुराने नोट बंद कर दिए हैं. ये फैसला ऐसे टाइम पर लिया गया जब आदमी अभी दिवाली पर गहने खरीद लाया था. रात आठ बजे बताने बैठे. अब रात नौ बजे कोई गहने लेने तो जाएगा है नहीं. भले ये स्टीरियोटाइप हो, लेकिन अगर औरतों ने जबरन गहने खरिदवा भी लिए होंगे तो मर्द मुस्कुरा रहे होंगे. सबसे ज्यादा बुरा तो उनके साथ हुआ है. जो हिलेरी और ट्रंप पर सट्टा लगाए बैठे थे. सट्टा अब भी लगा है लेकिन दांव पर खुल्ले पैसे चढ़े हैं. डोनाल्ड ट्रंप हिलेरी के मुकाबले चार दस के सिक्के आगे चल रहे हैं. आज रात के बारह बजे सच में कितनों के बारह बज गए.

लेकिन नरेंद्र मोदी ने ये फैसला ऐसे ही नहीं ले लिया. इसके पहले बीजेपी के नेताओं की एक खुफिया मीटिंग हुई थी. जिसकी डीटेल्स लीक होकर हम तक आ गई हैं.

हम ये मानते हैं कि आप ये जानते हैं कि ये खबर असल नहीं एक मजाक है.

स्थान : 7 लोक कल्याण मार्ग दिल्ली

तारीख : 08 नवंबर 2016

समय: शाम का वक़्त है.

प्रधानमंत्री के कमरे में दाखिल होते ही सब अपना व्हाट्सएप बंद करने लगते हैं. रविशंकर प्रसाद पीएम आवास के वाई-फाई से कनेक्शन डिस्कनेक्ट कर लेते हैं.

राजनाथ सिंह : मोदी जी आपकी तो सेना के प्रमुखों से मीटिंग होनी है, फिर हमें क्यों बुलाया है?

नरेंद्र मोदी : उनसे तो खुल्ले पैसे मंगाए हैं, असल बात तो आपसे करनी थी.

अमित शाह : खुल्ले पैसे? और हमसे क्यों मिलना था? इधर तो किसी नेता ने कोई बयान भी नहीं दिया.

नरेंद्र मोदी : इनने दिया तो है, समेटिए अब!

(किरण रिजिजू सकपका कर बैठ जाते हैं. फिर भुनभुनाते हैं, गृहमंत्री भी तो कैराना में मां के दूध को ललकार आए हैं…)

अरुण जेटली : हम काले धन पर एक फैसला लेने जा रहे हैं.

दस सेकंड के सन्नाटे के बाद, खुसपुस शुरू हो जाती है.

अमित शाह : तो साहब इस बार स्विटजरलैंड जा रहे हैं?

राजनाथ सिंह : पर विपक्ष का क्या, वो कहेंगे, हम बदले की राजनीति कर रहे हैं.

नरेंद्र मोदी : तो आप मानकर बैठे हैं, विपक्ष के लोगों का पैसा स्विस बैंक में है. (हंसते हैं मोदी!)

मीटिंग में हंसी की लहर बिखर जाती है.

अमित शाह (थोड़ा शरारत के अंदाज़ में) : हम ये भी तो नहीं कह सकते कि सत्ता पक्ष के लोगों के पैसे स्विस बैंक में है.

ताली पर ताली पड़ती है, हंसी की एक और लहर…

नरेंद्र मोदी : मैं हजार और पांच सौ के नोट आज रात से बंद करने जा रहा हूं.

(सनाका खिंच जाता है…)

नरेंद्र मोदी : 2000 के नोट आएंगे, अभी सारे बड़े नोट बंद होंगे, पांच सौ के पुराने नोट बंद होंगे.

लालकृष्ण आडवाणी : कर दीजिए, आप लोग पुराना सब बंद कर दीजिए. पुरानों की चलती ही कहां है?

राजनाथ सिंह : लाल जी आप हर चीज को पर्सनली काहे ले लेते हैं.

लालकृष्ण आडवाणी : हमारी जगह आप होते तो यही कहते.

राजनाथ सिंह : गृह मंत्री हूं. अब क्या कह दूं, मुंह खुलवाना चाहते हैं आप.

अरुण जेटली : कल बैंक भी बंद रहेंगे.

नरेंद्र मोदी : कहिए मितरों, क्या राय है, सुरेश जी, सुषमा जी?

सुरेश-सुषमा (समवेत स्वर में) : हमें क्या हमारा बैंक का काम नहीं, ट्विटर अकाउंट से काम होता है.

अरुण जेटली : अरे बताइए ठीक है न?

अमित शाह : ये बात तो मनमोहन जी कहते थे.

…फिर हंसी की एक लहर.

लालकृष्ण आडवाणी : अब तो हो ही गया है जो होना है.

स्मृति ईरानी : चलिए, निकलते हैं, एटीएम तरफ भी जाना है.

किरण रिजिजू : राजनाथ जी, मैं जिम तरफ जा रहा हूं, होगा तो मुझे भी छोड़ दीजिएगा. टैक्सी के लिए खुल्ले नहीं हैं.

रविशंकर प्रसाद ने निकलते ही जियो सिम में नेट चालू कर लिया. मोदी मुस्कुराते हुए सबको जाते देखते हैं.

 

4 COMMENTS

Comments are closed.